The Migrant Lives Project

 

According to the latest official estimates, India has more than 60 million inter-state migrants, people who move out of their home state mainly looking for job and education opportunities. As per Economic Survey 2016-17, internal migration in India is intensifying for the last two decades. The journey goes on.

Migration is a story of parting, leaving behind the home in search of education, job and at times safety.

Migration is often a story of misery, where survival is about a game of hide-and-seeks with toil, poverty, desolation and contempt.

This is yet another story about the endless journeys that entangle into the human existence, as we see them around.

We are telling these stories at a time when tens and thousands of humans across the world are thrown out of their homeland and are forced to go begging, to face contempt and hate of the less welcoming far lands.

We are telling these stories as new cocktails of banishment are concocted.

In the end, we know that we also have to go on our own exodus. From campus to capital in search of jobs, as if setting off, parting is the inevitable destiny.

…………………………………………………………………………………………………………………..

The Chattisgarh Colony: Life after Work 

By: Aakriti Mahajan

Life at Chattisgarh Colony

Chattisgarh Colony in Dharamshala is a hub of migrant labourers who hail from Chattisgarh and has come to Dharamshala looking for job opportunities. The series of single-room quarters at the colony is a home away from home for several skilled and unskilled labourers and their families who contribute to the workforce to the construction projects in and around Dharamshala.

Read the Story of Chattisgarh Colony

उम्र पर भारी पड़ता स्वाभिमान

By: Anu Sharma

विश्राम मीना उम्र 65 वर्ष (राजस्थान निवासी ) प्रवासी मजदूर

बिसराम मीना, उम्र 65वर्ष राजस्थान के निवासी है | इनकी पत्नी का नाम सोनवाई है इनकी दो बेटियां और तीन बेटे हैं इनका छोटा बेटा जयपुर पुलिस में है इसके बावज़ूद भी ये काम करते हैं इनका कहना है की काम करना मेरा शौक़ है| बस हमारे हाथ पैर सलामत रहें ‘मुझे मुफ्त की रोटी नही खानी है जब तक मैं सही सलामत हूँ खुद ही मेहनत्त करूँगा |

Read the story of Bisharm Meena

प्रवासी मजदूर की जिंदगी

By:- Diksha Sharma

प्रवाशी मजदूर

धर्मेन्द्र हिमाचल प्रदेश के काँगड़ा जिले के छतरी गाँव ( शाहपुर )में दिहाड़ी मजदूरी करते है, बिहार के भीतिया के रहने वाले धर्मेन्द्र (२४)पिछले ५ महीने से छतरी में प्रवाशी मजदूर के रूप में काम कर रहे है |

Read the Story of the Headload Workers

उम्मीद – एक बेहतर ज़िन्दगी की

By:- Kusum Sharma

घर के हालातो से मजबूर पिता की हालत को छोटा सा बच्चा भी समझ गया और पिता को कार्य करता देख वो मासूम अपने हाथो को नही रोक पाया ”

हर शहर हर कस्बे हर घर की अपने आप में ही अलग-अलग कहानी होती है |  ऐसे ही एक कहानी मध्यप्रदेश के ग्वार्लियर के रहने बाले एक परिवार की है जो कि अपने घर से बहुत दूर हिमाचल प्रदेश के काँगड़ा जिले के शाहपुर में रहते है |

Read the Story of the Golgappa Maker

किताबों और पेन की जगह औज़ार – रोजी – रोटी की अंतहीन यात्रा

By:- Pooja Thakur

अजय अभी 17 साल का है जिस वक्त इन हाथों में अपने भविष्य के तकदीर को लिखने के लिए पेन और कॉपी होना चाहिए उस वक्त पिघले हुए लोहे को हथौड़े से आकार दिया जा रहा है,

देहरादून के ये लोगों ने अपने घर से बहुत दूर हिमाचल प्रदेश के काँगड़ा ज़िले के भनोई गांव में रोजी रोटी की तलाश में आए हैं| यहाँ तीन अलग –अलग  परिवार झुग्गी –झोंपड़ियों में रहते है | ये लोहे का काम करते हैं और दराट, कुल्हाड़ी ,दराटी इत्यादि बनाते हैं |

Read the Story of the Nomad Blacksmiths

अब तो हिमाचल ही घर है

By:- Raja Babu

महेश (44 वर्ष)

नारायणपुर के महेश अपनी बीबी और चार बच्चों के साथ हिमाचल के काँगड़ा जिले में रहते है। यहाँ पर वो एक प्रवासी मजदूर हैं। एक पेंट फैक्ट्री में महेश और उनका बड़ा बेटा जिसकी उम्र 17 साल है, काम करते है। परिवार की आय लगभग 14000 है।

Read the Story the Conflict displaced Migrant Family

हिमाचल में उत्तर प्रदेश का स्वाद

By:- Suman Sharma

Tula Ram

65 वर्षीय तुला राम एक परदेसी जो की परिवार को पालने के लिए अपने शहर बरेली से यहाँ हिमाचल आये | इनकी उम्र 65 वर्ष है इस उम्र मे भी मेहनत करके अपने परिवार को पाल रहे है इसमें इनका साथ इनकी पत्नी और इनके दो छोटे बेटे दे रहे है |

Read the Story of the Desi Burger Maker

Migrant Lives in the Mountains

By:- Sunil Kumar Mishra

Monender ( Right), Bhagola (Left), Life is not a bed of roses.

The easier way to spot a migrant labourer in Hatli is paan.  You can talk to them only when they spit the paan or gutka. Hatli, an industrial village in Chamba district, bordering Kangra, in Himachal Pradesh, is a hub of migrant labourers from states like Punjab, Bihar and Uttar Pradesh.

Read the Story of Migrant Labourers in Hatli

…………………………………………………………………………………………………………………..

The Migrant Lives Project is a student photo project about documenting the lives of migrant labourers in the district of Kangra in Himachal Pradesh.

These photo essays were submitted as part of the final project of their Photojournalism course at the Department of Journalism & Creative Writing at the Central University of Himachal Pradesh.